Monday, January 30, 2023
No menu items!
Google search engine
Homeउत्तराखंडबागेश्वर : कास्तकरों की खरीफ फसल मडुवा, सोयाबीन, चौलाई, झंगोरा उत्पादन खरीद...

बागेश्वर : कास्तकरों की खरीफ फसल मडुवा, सोयाबीन, चौलाई, झंगोरा उत्पादन खरीद के लिए 03 क्रय केंद्र 15 अक्टूबर से खरीद प्रारंभ

बागेश्वर ::- जनपद में कास्तकरों की खरीफ फसल मडुवा, सोयाबीन, चौलाई तथा झंगोरा उत्पादन खरीद के लिए 03 क्रय केंद्र 15 अक्टूबर से खरीद प्रारंभ करेंगे।

जिलाधिकारी रीना जोशी ने कास्तकारों की खरीफ फसल क्रय के लिए संबंधित अधिकारियों की बैठक लेते हुए निर्देश दिए कि कास्तकारों के शत-प्रतिशत उत्पाद खरीदे जाए, किसी भी कास्तकार को लौटना न पडे।

जिलाधिकारी ने कहा कि कास्तकारों की फसल खरीद के लिए जनपद में 03 क्रय केंद्र संचालित कियें जायेंगे, जिसमें गरूड ब्लॉक के डंगोली में, बागेश्वर के खाती गांव वहीं कपकोट ब्लॉक हेतु लोहारखेत में क्रय केंद्र खोले जायेंगे। साथ ही कास्तकारों की शत-प्रतिशत फसल खरीद के लिए जनपद के सभी 18 सोसाएटी सचिव व सदस्य भी गांव में जाकर कास्तकारों के उत्पाद खरीदकर संबंधित क्रय केंद्र को उपलब्ध कराना सुनिश्चित करेंगे। इसके साथ ही उन्होंने मोबाईल क्रय केंद्र संचालित करने के निर्देश भी एआर कॉपरेटिव को दिए।

जिलाधिकारी ने बताया कि मडुवा 27 रूपयें प्रति किग्रा., सोयाबीन 40 रूपयें, चौलाई 50 रूपयें व झंगोरा 25 रूपयें प्रति किग्रा0 शासन द्वारा दर निर्धारित (एमएसपी) की गयी है। उन्होंने कास्तकारों से अपील की है कि वे क्रय केंद्रों में अपने उत्पाद ब्रिकी समय अपनी बैंक पास बुक की फ़ोटो कॉपी साथ अवश्य लाए, ताकि उन्हें शीघ्र भुगतान हो सके। उन्होंने बताया कि क्रय केंद्रों में 15 अक्टूबर से जनवरी माह तक उत्पाद खरीदे जायेंगे। उन्होंने उत्पाद खरीदने हेतु बारदाना, तोल कांटा, गोदाम आदि की भी व्यवस्थाओं पूर्व सुनिश्चित करने के निर्देश अधिकारियों को दियें। उन्होंने मुख्य कृषि अधिकारी, एआर कॉपरेटिव, सोसाएटी सचिवों को निर्देश दिए कि वे उत्पादन खरीद का प्रचार-प्रसार गांव में जाकर करें तथा वहां के ग्राम प्रधानों एवं अन्य जनप्रतिनिधियों के साथ भी वार्ता करें तथा शासन द्वारा निर्धारित दरों का भी प्रचार-प्रसार करें।

जिलाधिकारी ने गत दिनों हुई वर्षा से कास्तकारों के हुए फसलों के नुकसान का शत-प्रतिशत स्थलीय आंकलन करने के निर्देश मुख्य कृषि अधिकारी को दिए, ताकि कास्तकारों को उनके फसल नुकसान का उचित बीमा व मुआवजा मिल सके।


सम्बंधित खबरें
- Advertisment -spot_imgspot_img

ताजा खबरें