Wednesday, February 8, 2023
No menu items!
Google search engine
Homeउत्तराखंडअल्मोड़ा : हिंदी हमारी अस्मिता की पहचान है,यह हमारी संवेदनाओं से जुड़ी...

अल्मोड़ा : हिंदी हमारी अस्मिता की पहचान है,यह हमारी संवेदनाओं से जुड़ी है- प्रो.जगत सिंह बिष्ट

अल्मोड़ा ::- एसएसजीना परिसर के हिंदी एवं अन्य भारतीय भाषा विभाग में विभागाध्यक्ष प्रो.जगत सिंह बिष्ट की अध्यक्षता में हिंदी दिवस मनाया गया। हिंदी दिवस के अवसर पर आयोजित हुई गोष्ठी में विद्वानों ने हिंदी भाषा के प्रयोग करने की बात कही।

इस दौरान प्रो. बिष्ट ने कहा कि हिंदी हमारी अस्मिता की पहचान है। यह हमारी संवेदनाओं से जुड़ी है। आज़ादी के उपरांत हम हर क्षेत्र में उभर कर आ रहे हैं। अब हिंदी भाषा के लिए चिंता करने की जरूरत नहीं है। हिंदी की दयनीय दशा नहीं है। आज हिंदी भाषा सबसे आगे है। हिंदी सबसे आगे रहने वाली भाषा बन गयी है। विदेशों में हिंदी की अलख जगी है। कई देशों में हिंदी बोलने, समझने वालों की संख्या बढ़ी है। प्रवासी हिंदी भाषा को बढ़ावा दे रहे हैं। हिंदी भाषा फलफूल रही है। विभागाध्यक्ष प्रो बिष्ट ने आगे कहा कि हिंदी के क, ख, ग क्षेत्र में हिंदी भाषा बोलने का ग्राफ बढ़ा है। हिंदी का विश्व में विस्तार हो रहा है।

गोष्ठी में डॉ प्रीति आर्या ने कहा कि हमारे लिए हिंदी दिवस एक त्यौहार की तरह है। हिंदी हमारी संवेदनाओं से जुड़ी है।

डॉ. तेजपाल सिंह ने कहा कि हिंदी की स्थिति दयनीय नहीं थी, न है और न ही रहेगी। हिंदी भाषा में अन्य भाषाओं को समाहित करने की क्षमता है। डॉ.माया गोला ने कहा कि हिंदी हमारी राजभाषा है। हिंदी भाषा के उन्नयन के प्रयास होने चाहिए। इसके प्रचार-प्रसार के लिए काम किये जाने की आवश्यकता है। डॉ बचन लाल ने कहा कि जो संस्कार हमें हिंदी भाषा सिखाती है वह अंग्रेजी भाषा नहीं। अंग्रेजी भाषा के गुलाम न बनें। हिंदी का सम्मान करें।

इस दौरान गोष्ठी में प्रो. कौस्तुबानन्द पांडे, डॉ प्रीति आर्य, डॉ ममता पंत, डॉ तेजपाल सिंह, डॉ. माया गोला, डॉ बचन लाल, डॉ प्रतिमा, डॉ आशा शैली, रवि कुमार, डॉ ललित चन्द्र जोशी (पत्रकारिता एवं जनसंचार), डॉ विजेता सत्याल, डॉ आरती परिहार समेत छात्र छात्राएं शोधार्थी मौजूद रहें।

सम्बंधित खबरें
- Advertisment -spot_imgspot_img

ताजा खबरें