Wednesday, February 8, 2023
No menu items!
Google search engine
Homeउत्तराखंडपिथौरागढ़ के शिवम पांडे का भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान आईआईटी गुवाहाटी में पीएचडी...

पिथौरागढ़ के शिवम पांडे का भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान आईआईटी गुवाहाटी में पीएचडी के लिए हुआ चयन

पिथौरागढ़ के शिवम पांडे का भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (आईआईटी) गुवाहाटी में पीएचडी के लिए चयन हुआ है। उनके चयन पर पिथौरागढ़ महाविद्यालय के सभी शिक्षकों ने खुशी जताते हुए इसे महाविद्यालय एवं पूरे पिथौरागढ़ के लिए एक उपलब्धि बताया है।

आईआईटी की परीक्षा उत्तीर्ण कर शिवम भारतीय सेना की रेक्रूट्मेंट नीति में आए बदलावों एवं उनके प्रभावों पर शोधकार्य करेंगे। यह पहली बार है कि जब महाविद्यालय के सैन्य विभाग से किसी छात्र का चयन पीएचडी के लिए आईआईटी में हुआ है।

शिवम ने अपनी स्नातक एवं स्नातकोत्तर स्तर की पढ़ाई पिथौरागढ़ महाविद्यालय से की है। वर्ष 2018 में उन्होंने महाविद्यालय के सैन्य विभाग से एमएससी कि डिग्री प्राप्त की। इससे पूर्व वर्ष 2020 में शिवम यूजीसी नेट-जेआरएफ की परीक्षा भी उत्तीर्ण कर चुके हैं।

महाविद्यालय के सैन्य विभाग के विभागाध्यक्ष प्रो. डीके उपाध्याय ने कहा कि ‘यह हमारे विभाग और महाविद्यालय के लिए बहुत ही गर्व का विषय है। शिवम बहुत ही जरूरी विषय पर शोध करने जा रहे हैं जो सीधे उत्तराखंड की सामाजिक, आर्थिक और भौगोलिक परिस्थितियों से जुड़ता है।’

इस मौके पर सैन्य विभाग के ही डॉ.सतीश जोशी, डॉ. एस कुमार, डॉ. राजेन्द्र सिंह राणा ने इस उपलब्धि को पूरे विभाग के लिए गौरवान्वित करने वाली खबर बताया और कहा कि इससे अन्य छात्र-छात्राएं भी अकादमिक क्षेत्र में आगे बढ़ने की प्रेरणा लेंगे।

शिवम ने बताया कि शोध एवं अध्ययन के प्रति अभिरुचि ‘आरंभ’ के साथ सामूहिक रूप से ‘पढ़ने की संस्कृति’ पर कार्य करते हुए ही जागृत हुई। छात्र जीवन से ही शिवम ‘आरंभ स्टडी सर्कल’ के माध्यम से पिथौरागढ़ में बहुत सी सामाजिक-राजनीतिक गतिविधियों में सक्रिय भूमिका में रहे हैं। शिवम आरंभ ग्रुप के साथ छात्र राजनीति में भी सक्रिय रहे हैं। वे स्वतंत्र शोधार्थियों के समूह ‘उत्तराखंड रिसर्च ग़्रुप’ से भी जुड़े हुए हैं।

शिवम के चयन पर खुशी जताते हुए जनमंच के संयोजक भगवान रावत ने कहा कि शिवम सामाजिक सरोकारों के प्रति प्रतिबद्ध रहे हैं और क्षेत्र के हित के बहुत से मुद्दों पर सक्रिय थे। शिवम का आईआईटी में चयन सीमांत के लिए उपलब्धि है, उन्होंने सच्चे अर्थों में पढ़ाई और लड़ाई साथ साथ के नारे को चरितार्थ किया है।

सम्बंधित खबरें
- Advertisment -spot_imgspot_img

ताजा खबरें